अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

11:36 am
कविता का अंश... चतुर वानर चतुर वानर की सुनो कहानी, वन में मित्रों संग, करता था मनमानी। बंदरिया संग घूमा करता, कच्चे-पक्के फल खाता था। पेड़-पेड़ पर धूम मचाता, प्यास लगती तो नदी तक जाता। पानी में अपना मुख देख वो, गर्व से खुश हो गुलट्टिया खाता। तभी मगरमच्छ आया निकट, देख उसे घबड़ाया वानर। मगर ने कहा,‘‘न डरो तुम मुझसे आओ तुमको सैर कराऊॅं, इस तट से उस तट ले जाऊॅं। कोई मोल न लूॅंगा तुमसे, तुम तो हो प्रिय मेरे साॅंचे।’’ वानर को यह कुछ-कुछ मन भाया, पर बंदरिया ने भर मन समझाया। सैर करने का मन बनाकर, झट जा बैठा, मगर के पीठ पर लगा घूमने सरिता के मध्य पर। तभी मगर मंद-मंद मुसकाया, कलेजे को खाने की इच्छा जताया, ‘कल से वो भूखी है भाई जिससे मैंने ब्याह रचायी उसकी इच्छा करनी है पूरी तुम्हारा कलेजा लेना है जरुरी।’ सुन वानर को आया चक्कर, घनचक्कर से कैसे निकले बचकर ? अचंभित होकर वो लगा बोलने, ओह! प्रिय मित्र पहले कहते भाई। मैं तो कलेजा रख आया वट पर, चलो वापस फिर उस तट पर। मैं तुम्हें कलेजा भेंट करुॅंगा, न कुछ सोचा, न कुछ विचारा मगर ने झट दिशा ही बदला। ले आया वानर को तट पर, और कहा,‘ मित्र करना जरा झटपट।’ वानर को सूझी चतुराई, झट जा बैठा वट के ऊपर। दाॅंत दिखाकर मगर को रिझाया, और कहा,‘अब जाओ भाई तुम मेरे होते कौन हो ? तेरा-मेरा क्या रिश्ता भाई ? वानर ने अपनी जान बचाई, मगर की न चली कोई चतुराई। इस कविता का आनंद ऑडियो की मदद से लीजिए...

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.