अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

11:43 am
रहीम जी का हिंदी साहित्य जगत में योगदान अतुल्य है। समाज को आईना दिखाने वाली बातें, वे अपने दोहों में कह जाते थे। मानव जाति को रहीम के दोहों से सही एवं गलत में फर्क करने की सीख मिलती है। उन्होंने सदैव सरल भाषा का प्रयोग किया जिससे उनकी वाणी और लोकप्रिय हुई। यहाँ प्रस्तुत हैं उनके कुछ नीति के दोहे - 1 बानी ऐसी बोलिये, मन का आपा खोय। औरन को सीतल करै, आपहु सीतल होय॥21॥ 2 बड़ा हुआ तो क्या हुआ, जैसे पेड़ खजूर। पंथी को छाया नहीं, फल लागे अति दूर॥18॥ 3 दुख में सुमिरन सब करे, सुख में करे न कोय। जो सुख में सुमिरन करे, तो दुख काहे होय॥3॥ 4 रहिमन धागा प्रेम का, मत तोरो चटकाय| टूटे पे फिर ना जुरे, जुरे गाँठ परी जाय|| 5 बिगरी बात बने नहीं, लाख करो किन कोय| रहिमन फाटे दूध को, मथे न माखन होय|| 6 रूठे सुजन मनाइए, जो रूठे सौ बार| रहिमन फिरि फिरि पोइए, टूटे मुक्ता हार|| 7 जो बड़ेन को लघु कहें, नहीं रहीम घटी जाहिं| गिरधर मुरलीधर कहें, कछु दुःख मानत नाहिं|| 8 रहिमन विपदा हू भली, जो थोरे दिन होय| हित अनहित या जगत में, जान परत सब कोय|| 9 समय पाय फल होत है, समय पाय झरी जात| सदा रहे नहिं एक सी, का रहिम पछितात|| 10 एकहि साधै सब सधैए, सब साधे सब जाय| रहिमन मूलहि सींचबोए, फूलहि फलहि अघाय|| 11 माली आवत देख के, कलियन करे पुकारि। फूले फूले चुनि लिये, कालि हमारी बारि॥ इन दोहों का आनंद ऑडियो की मदद से लीजिए...

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.