रविवार, 18 दिसंबर 2016

कविता - गीत मेरे - हरिवंशराय बच्‍चन

कविता का अंश... गीत मेरे, देहरी का दीप-सा बन। एक दुनिया है हृदय में, मानता हूँ, वह घिरी तम से, इसे भी जानता हूँ, छा रहा है किंतु बाहर भी तिमिर-घन, गीत मेरे, देहरी का द‍ीप-सा बन। प्राण की लौ से तुझे जिस काल बारुँ, और अपने कंठ पर तुझको सँवारूँ, कह उठे संसार, आया ज्‍योति का क्षण, गीत मेरे, देहरी का द‍ीप-सा बन। दूर कर मुझमें भरी तू कालिमा जब, फैल जाए विश्‍व में भी लालिमा तब, जानता सीमा नहीं है अग्नि का कण, गीत मेरे, देहरी का द‍ीप-सा बन। जग विभामय न तो काली रात मेरी, मैं विभामय तो नहीं जगती अँधेरी, यह रहे विश्‍वास मेरा यह रहे प्रण, गीत मेरे, देहरी का द‍ीप-सा बन। इस कविता का आनंद ऑडियो की मदद से लीजिए...

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Labels