अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

11:23 am
रहीम जी का हिंदी साहित्य जगत में योगदान अतुल्य है। समाज को आईना दिखाने वाली बातें, वे अपने दोहों में कह जाते थे। मानव जाति को रहीम के दोहों से सही एवं गलत में फर्क करने की सीख मिलती है। उन्होंने सदैव सरल भाषा का प्रयोग किया जिससे उनकी वाणी और लोकप्रिय हुई। यहाँ प्रस्तुत हैं उनके कुछ नीति के दोहे - 1. जो रहीम उतम प्रकृति, का करी सकत कुसंग| चन्दन विष व्यापे नहीं, लिपटे रहत भुजंग|| 2. रहिमन पानी राखिये बिन पानी सब सून| पानी गये न ऊबरे मोती मानुष चून|| 3. रहिमन देखि बडेन को, लघु न दीजिए डारि| जहां काम आवे सुई, कहा करे तरवारि|| 4. तरुवर फल नहिं खात है, सरवर पियहि न पान| कहि रहीम पर काज हितए संपति सँचहि सुजान|| 5. जे गरीब पर हित करैं, हे रहीम बड़ लोग। कहा सुदामा बापुरो, कृष्ण मिताई जोग॥ 6. रहिमन वे नर मर गये, जे कछु माँगन जाहि। उनते पहिले वे मुये, जिन मुख निकसत नाहि॥ 7. कहि रहीम संपति सगे, बनत बहुत बहु रीत। विपति कसौटी जे कसै, ते ही साँचे मीत।। 8. खीरा सिर ते काटि के, मलियत लौंन लगाय| रहिमन करूए मुखन को, चाहिए यही सजाय|| 9. कदली सीप भुजंग मुख, स्वाति एक गुन तीन। जैसी संगति बैठिए, तैसो ही होत दीन।। 10. दोनों रहिमन एक से, जों लों बोलत नाहिं| जान परत है काक पिक, रितु बसंत के माहिं|| 11. जो रहीम गति दीप की, कुल कपूत गति सोय। बारे उजियारो लगे, बढ़े अँधेरो होय॥ इन दोहों का आनंद ऑडियो की मदद से लीजिए...

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.