अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

1:22 pm
कहानी का अंश... एक बार की बात है, एक नगर में एक राजा रहता था जिसके खजाने भरपूर भरे हुए थे. एक दिन कालू नाम के चोर ने राजा के खजाने को चोरी करने की योजना बनाई. आधी रात को कालू राजा के महल में चोरी करने पहुँच गया. वह खजाने के दरवाजे में छेद करने लगा. राजा भी उस समय जगा हुआ था, उसे कुछ आवाज सुनाई दी, वह बाहर आया, आवाज खजाने की दिशा से आ रही थी, वह इसे जांचने वहाँ गया. राजा ने साधारण से वस्त्र पहने हुए थे और चोर उन्हें पहचान नहीं पाया. राजा ने कालू से पूछा तुम कौन हो और क्या कर रहे हो. कालू ने कहा मै चोर हूँ और खजाना लुटने आया हूँ, मुझे लगता है कि तुम भी चोर हो और इसी इरादे से आये हो. कोई नहीं, हम दोनों साथ ही अंदर चलकर खजाना लुट लेते हैं और खजाने का आधा-आधा हिस्सा कर लेंगे. उन्होंने ऐसा ही किया और खजाने का सारा पैसा और जवाहरात लूटकर आधा-आधा बाँट लिया. वहाँ हीरे के तीन टुकड़े भी पड़े हुए थे. चोर ने कहा कि इन हीरे के तीन टुकड़ो को दोनों में कैसे बाँटेंगे, तब राजा ने सुझाव दिया की हम इन तीन हीरे के टुकड़ो में से एक गरीब राजा के लिए छोड़ देते है और एक-एक हम रख लेते हैं. चोर इस बात पर राजी हो गया. जब चोर अपना हिस्सा लेकर जाने लगा, तब राजा ने उससे उसका नाम और पता पूछा. कालू ने सच बोलने की कसम खा राखी थी इसलिए उसने सब कुछ सच-सच बता दिया. राजा ने अपना हिस्सा लिया और उसे अपने कमरे में छुपा दिया. अगली सुबह उसने अपने प्रमुख मंत्री को खजाने का निरीक्षण करने के लिए कहा. मंत्री ने निरीक्षण करते वक्त देखा कि सारा खजाना खाली हो गया है, केवल हीरे का एक टुकड़ा ही बचा है. उसे पता चल गया कि खजाना चोरी हो गया है. उसने हीरे को उठाया और अपनी जेब में रख लिया. उसने सोचा कि सब सोचेंगे कि चोर ने सारा खजाना चुराया है और कोई मुझ पर शक भी नहीं करेगा. मंत्री ने राजा को सारी बात बताई कि सारा खजाना चोरी हो चूका है, कुछ भी नहीं बचा. राजा ने अपने सिपाहियों को बोला कि वे कालू को पकड़ कर दरबार में ले आये. सिपाहियों ने ऐसा ही किया, जब कालू दरबार में पहुँचा तो वह राजा को पहचान नहीं पाया कि वह उसका चोर साथी है. राजा ने उससे पूछा कि क्या तुम ही वही चोर हो जिसने सारा खजाना लुटा है और कुछ नहीं छोड़ा. कालू ने सच सच बता दिया कि मैंने आधा खजाना लुटा है आधा मेरे साथी ने लुटा है, मैंने साथी चोर की सलाह पर वहाँ एक हीरे का टुकड़ा आपके लिए छोड़ दिया था और वो टुकड़ा वही पर होगा. मंत्री ने राजा से कहा कि यह चोर झूठ बोल रहा है, मैंने खुद जाँचा है वहाँ कुछ नहीं था. राजा ने अपने सिपाहियों से कहा कि वे मंत्री की तलाशी ले. तलाशी के वक्त मंत्री की जेब से वो हीरे का टुकड़ा मिल गया. इस प्रकार राजा ने अपनी चतुराई से अपना खजाना भी बचा लिया और अपने मंत्री की वफादारी के बारे में भी पता लगा लिया. इस प्रकार कालू ने चोर होते हुए भी सच बोला जबकि मंत्री ने ना केवल चोरी की बल्कि झूठ भी बोला. कालू से बड़ा चोर राजा का मंत्री था क्योकि मंत्री राजा का वफादार होता है, राजा अपने मंत्री पर भरोसा करता है और उससे बुरे वक्त पर सलाह मांगता है. राजा का मंत्री चोर और जूठा था और ऐसे गुण वाले मंत्री से ना केवल राजा को बल्कि पुरे राज्य को नुकसान हो सकता है. कहने का मतलब ये है कि ज्यादा खतरा अच्छे लोगो के बुरा काम करने से है. इसलिए हमें अपना जीवन ईमानदारी और मेहनत से जीना चाहिए। इस कहानी का आनंद ऑडियो की मदद से लीजिए…

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.