अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

1:11 pm
प्रेरक प्रसंग का अंश… पाठशाला में एक नई बालिका ने प्रवेश लिया। अध्यापिका ने कक्षा में उसका परिचय करवाया – यह स्वाति है। अब इसी कक्षा में पढ़ेगी। फिर वे स्वाति से बोली – स्वाति, तुम्हें इस कक्षा की लड़कियों से पता चल जाएगा कि वे कौन-कौन से पाठ पढ़ चुकी हैं। तुम इनकी सहायता से उन पाठों को तैयार कर सकती हो। स्वाति सुंदर थी। वह चुप-चुप सी रहती थी। उसकी कक्षा की लड़कियाँ उससे मित्रता करना चाहती थी, परंतु वह उनसे दूर-दूर रहती। लड़कियों को लगा कि स्वाति घमंडी है अत: उन्होंने उसकी ओर ध्यान देना छोड़ दिया। एक दिन पाठशाला में बच्चों को पिकनिक पर ले जाने का निश्चय किया गया। पिकनिक का स्थान एक झील को चुना गया। झील का वातावरण बहुत आकर्षक था। पहाड़ी स्थान और फूलों की भरमार इस स्थ्ल की सुंदरता में चार चाँद लगा रहे थे। अन्य लड़कियों को लगा कि स्वाति पिकनिक पर नहीं आएगी। परंतु पिकनिक पर जाने के लिए स्वाति सबसे पहले विद्यालय के द्वार पर खड़ी थी। सभी लड़कियाँ और अध्यापिकाएँ बस में बैठकर पिकनिक स्थल पहुँच गई। एक अच्छा स्थान देखकर अध्यापिका ने दरियाँ बिछवा दीं। कुछ लड़कियाँ वहाँ बैठ गई और हँसी-मजाक करने लगी। कुछ लड़कियाँ घूमने निकल गई। स्वाति भी अपनी सहपाठियों से अकेली ही घूम रही थी। वह एक फूल के पौधे के पास बैठ गई। अचानक धप्प की आवाज आई और एक चीख गूँज उठी। स्वाति उठकर तेजी से आवाज की ओर दौड़ पड़ी। झील के किनारे उसे एक लाल कपड़ा दिखाई दिया। वह उधर ही दौड़ने लगी। झील के पास पहुंचते ही उसे बचाओ, बचाओ की आवाज सुनाई दी। उसने देखा कि उसकी कक्षा की एक लड़की नीरू झील में गिर गई है। झील में उस स्थान में पानी कम और कीचड़ अधिक था। वह भाग दलदल बना हुआ था। क्या स्वाति नीरु को बचा पाई? क्या अन्य लोगों ने स्वाति और नीरू को वहाँ देखा? आगे क्या हुआ? यह जानने के लिए ऑडियो की मदद लीजिए….

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.