शनिवार, 19 मार्च 2016

रीछ का बच्चा - नज़ीर अकबराबादी

नज़ीर अकबराबादी ने अपनी शायरी में साधारण से साधारण का भी क्या खूब वर्णन किया है। मेलों-ठेलों, तैराकी, चिडि़याँ, जानवरों की लड़ाई, लैला-मजनुं के किस्से सभी कुछ उनकी रचना में देखने को मिल जाता है। रीछ का बच्चा उनकी लोकप्रिय रचना है। आप भी इसका आनंद लीजिए...

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Labels