सोमवार, 14 मार्च 2016

चाँद का कुरता - रामधारी सिंह 'दिनकर'

रामधारी सिंह 'दिनकर' (२३ सितंबर १९०८- २४ अप्रैल १९७४) हिन्दी के एक प्रमुख लेखक, कवि व निबन्धकार थे। वे आधुनिक युग के श्रेष्ठ वीर रस के कवि के रूप में स्थापित हैं।'दिनकर' स्वतन्त्रता पूर्व एक विद्रोही कवि के रूप में स्थापित हुए और स्वतन्त्रता के बाद राष्ट्रकवि के नाम से जाने गए। वे छायावादोत्तर कवियों की पहली पीढ़ी के कवि थे। एक ओर उनकी कविताओ में ओज, विद्रोह, आक्रोश और क्रान्ति की पुकार है तो दूसरी ओर कोमल श्रृंगारिक भावनाओं की अभिव्यक्ति है। बालमन को समझने का प्रयास भी उन्होंने बड़ी चतुराई के साथ किया है। प्रस्तुत है उसी संदर्भ में उनकी यह बाल कविता - चाँद का कुरता...

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Labels