रविवार, 20 मार्च 2016

कल कहाँ जाओगी - पद्मा सचदेव

पद्मा सचदेव एक भारतीय कवयित्री और उपन्यासकार हैं। वे डोगरी भाषा की पहली आधुनिक कवयित्री हैं। वे हिन्दी में भी लिखती हैं। "मेरी कविता मेरे गीत" के लिए उन्हें 1971 में साहित्य अकादमी पुरस्कार प्राप्त हुआ। उन्हें वर्ष 2001 में पद्म श्री और वर्ष 2007-08 में मध्य प्रदेश सरकार द्वारा कबीर सम्मान प्रदान किया गया। प्रस्तुत कहानी उनकी एक प्रसिद्ध कहानी है।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Labels