सोमवार, 21 मार्च 2016

अनाथ लड़की - मुंशी प्रेमचंद

प्रेमचंद हिंदी और उर्दू के महानतम भारतीय लेखकों में से एक हैं। वैसे तो इनका मूल नाम धनपत राय श्रीवास्तव हैं किन्तु साहित्य जगत में प्रेमचंद को नवाब राय और मुंशी प्रेमचंद के नाम से भी जाना जाता है। उपन्यास के क्षेत्र में उनके योगदान को देखकर बंगाल के विख्यात उपन्यासकार शरतचंद्र चट्टोपाध्याय ने उन्हें उपन्यास सम्राट कहकर संबोधित किया था। प्रेमचंद ने हिन्दी कहानी और उपन्यास की एक ऐसी परंपरा का विकास किया जिसने पूरी शती के साहित्य का मार्गदर्शन किया। आगामी एक पूरी पीढ़ी को गहराई तक प्रभावित कर प्रेमचंद ने साहित्य की यथार्थवादी परंपरा की नींव रखी। उनका लेखन हिन्दी साहित्य की एक ऐसी विरासत है जिसके बिना हिन्दी के विकास का अध्ययन अधूरा होगा। वे एक संवेदनशील लेखक, सचेत नागरिक, कुशल वक्ता तथा सुधी संपादक थे। हिंदी साहित्य जगत में उनका योगदान अतुलनीय है। प्रस्तुत है उनकी एक कहानी अनाथ लड़की...

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Labels