बुधवार, 9 मार्च 2016

कहानी - प्यारी राजकुमारियॉं

राजगढ़ के राजा सूर्यदेव को पु्त्र न होने का दुख था। वे इसी चिंता में रहते थे कि उनके बाद राज्य का भार कौन संभालगा ? लेकिन उनकी दोनों पुत्रियों ने उनकी इस चिंता को अपनी बु‍द्धि‍मानी और साहस से दूर कर दिया। अब वे बिलकुल चिंतामुक्त थे। सुनिए प्यारी राजकुमारियों की ये प्यारी-सी कहानी...

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Labels