मंगलवार, 8 मार्च 2016

बाल कहानी - जीत गए तुम

बाल कहानियों की पिटारी में से आज लेकर आए हैं बाल पत्रिका नंदन की एक कहानी - जीत गए तुम । स्वयं की वीरता साबित करने के लिए अस्त्र-शस्त्र का प्रयोग जरूरी नहीं, स्नेह जरूरी है। यह कहानी कुछ इसी तरह का संदेश देती है।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Labels