रविवार, 20 मार्च 2016

होली पर कुछ बाल कविताएँ - हरीश परमार

बाल कविताओं के क्षेत्र में हरीश परमार एक जाना-पहचाना नाम है। इन कविताओं में हरीश परमार ने होली की मस्ती के बीच ममत्व और अपनेपन का रंग बिखेरा है, जो रिश्तों को और मजबूत बनाता है। आप भी अपनापे के इन रंगों से सराबोर हो जाइए...

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Labels