अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

12:08 pm
संबंध, वह भी अच्छे संबंध बहुत मुश्क‍िल से बनते हैं। अच्छे संबंधों को लोग अपनी तरफ से निभाने की पूरी कोशिश करते हैं। अच्छे संबंध लोग बनाते ही इसलिए है कि जब हम मुसीबत में हों, परेशानी में हों, तब हमारे संबंधों की लाज रखने के लिए लोग आगे अाएँ और हमें मुसीबतों से बचाएँ या फिर इस मुसीबत में हमारा साथ दें। पर आजकल ऐसा नहीं हो रहा है। इस संबंध पर भी पानी ने गाज गिरा दी है। इस पानी से होने वाले विवाद ने एक झटके में अच्छे संबंधों को अलग कर दिया है। संबंधों की पुख्ता इमारत गिरने में ज़रा भी देर नहीं लगती। मुहावरों की भाषा में कहें तो हमारे चेहरे का पानी ही उतर गया है। कोई हमारे सामने प्यासा मर जाए, पर हम पानी-पानी नहीं होते। हाँ, मौका मिलने पर हम किसी को पानी पिलाने से बाज नहीं आते। अब कोई चेहरा पानीदार नहीं रहा। पानी के लिए पानी उतारने का कर्म हर गली-चौराहों पर आज आम बात हो गई है। संवेदनाएँ पानी के मोल बिकने लगी है। हमारी चपेट में आनेवाला पानी नहीं माँगता। हमारी चाहतों पर पानी फिर रहा है। पानी टूट रहा है और हम बेबस हैं। और क्या-क्या है पानी की हकीकत... ये जानने के लिए सुनिए डॉ. महेश परिमल का आलेख - संबंध दरकने के दिन...

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.