मंगलवार, 1 मार्च 2016

कहानी - कंजूस करोड़ीमल

सेठ करोडीमल की कंजूसी ने उन्हें इस तरह से मुसीबत में डाल दिया कि पैसे बचाने के चक्कर में उलटे पैसे खर्च करने की नौबत आ गई। इस मुसीबत से बचने का कोई उपाय न था। सुनिए एक मजेदार कहानी नन्ही पीहू की जुबानी...

1 टिप्पणी:

  1. आज सलिल वर्मा जी ले कर आयें हैं ब्लॉग बुलेटिन की १२५० वीं पोस्ट ... तो पढ़ना न भूलें ...
    ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, " ब्लॉग बचाओ - ब्लॉग पढाओ: साढे बारह सौवीं ब्लॉग बुलेटिन " , मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं

Post Labels