अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

6:45 pm
तेनालीराम राज्य के कार्य में इतना व्यस्त रहता था कि वह अपने पिता के साथ अधिक समय ही नहीं बिता पाता था। इससे नाराज होकर पिता गांव चले जाने का निर्णय लेते हैं। वे अपने पुत्र का चेहरा तक नहीं देखना चाहते हैं। पिता को रोकने का साहस तेनालीराम में न था। वह अपनी परेशानी राजा को भी नहीं बताता किंतु राजा को चाटुकारों से इस बात को पता चल जाता है और वह उनके कान भरते हैं कि तेनालीराम के पिता का सम्मान करने के लिए उन्हे राजमहल बुलाया जाए। राजा उनकी बात मान लेते हैं। महल लौटने पर पिता को अपने पुत्र की तारीफ सुनकर अपने लिए निर्णय पर पछतावा होता है, लेकिन कुछ समय बाद ही उनका पछतावा खुशी में बदल जाता है। वो किस तरह? यह जानने के लिए सुनिए कहानी पिता और पुत्र की अर्थात तेनालीराम की...

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.