शनिवार, 3 नवंबर 2007

हरीश परमार की बाल कविताएँ 3

फूल अनमोल

तितली और भौंरे तो
आकर हमसे कहते हैं
फूलों की सुंदरता देखो
फूल अनमोल होते हैं।
नित नए लगते हैं फूल
और सदा महकते हैं
आते-जाते हर राही का
फूल स्वागत करते हैं
फूलों से बात करो तो
खुद फूल बात करते हैं
अपनी मधुर मुस्कान से
सबका मन हरते हैं
नन्हें-नन्हें बच्चों जैसे
फूल भी मासूम होते हैं
छेड़ोगे तो रो देते हैं
प्यार करो तो हंसते हैं।
सोने चाँदी से भी प्यारे
फूल अनमोल होते हैं
फूलों का जो लेते उपहार
वो किस्मत वाले होते हैं।

हवाएँ

नदी में नहा कर आती हवाएँ
तन को ठंडक पहँचाती हवाएँ
फूलों को छू कर आती हवाएँ
दिशओं को महकाने आती हवाएँ
सन्न् सन्न् संगीत सुनाती हवाएँ।
सावन के गीत गाती हवाएँ
उत्तर से दक्षिण, पूरब से पश्चिम
दुनिया की सैर करती हवाएँ
घर में केलेंडर उड़ाती हवाएँ
जंगल में पेड़ हिलाती हवाएँ।
सागर में हंगामा मचाती हवाएँ
मैदान में धूल उड़ाती हवाएँ
दिखाई नहीं देती हमको हवाएँ
हर पल का अहसास कराती हवाएँ
जीवन के गीत गाती हैं हरदम
साँसों में आती जाती हवाएँ।

नदी

सुबह की रोशनी में
मुस्कराती है नदी
उछलती है, कूदती है
धूम मचाती है नदी
शाम के साए में
उदास हो जाती है नदी
ऍंधेरी काली रात में
शांत रहती है नदी
गुलाबी जाड़ों से शरमा कर
सिमट जाती है नदी
लजाती सकुचाती राह में
धीरे-धीरे बहती है नदी
समुद्र सा चौड़ा सीना लिए
बरसात में दौड़ती है नदी
अपनी सारी शक्ति ले कर
सबको डराती है नदी।

उपहार

फूलों में रंग होते हैं
फूल खूबसूरत होते हैं
फूलों में खुशबू होती है
इसलिए फूल मुझे अच्छे लगते हैं
नया वर्ष हो या किसी का जन्मदिन
मुझे फूलों का उपहार देना
अच्छा लगता है
मुझे भी खुशी होगी
जब कोई समझेगा
मेरी तरह
फूलों की बातें
और मुझे भी
फूलों का उपहार देगा।

मेरा मन

नील गगन पर प्यारे पंछी
जब उड़ते हैं दूर-दूर तक
संग-संग उड़ते उड़ते मेरा
मन पंछी बन जाता है।
बड़े सवेरे बागों में
जब खिलते हैं सुमन सुंदर
देख-देख सुमन को
मन सुमन बन जाता है।
जब नदी गुनगुनाती है
मेरा भी मन गाता है
फिर सागर में जाकर मन
एक मोती बन जाता है।
धरती की हरियाली देख
मन हरा-भरा हो जाता है
अच्छी-अच्छी बातों में
मेरा समय कट जाता है।
मन मेरा हर बार कहे
सारी दुनिया सुखी रहे
सबकी खुशियाँ देख-देख
मन विजय गान गाता है।
हरीश परमार

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Labels