मंगलवार, 15 नवंबर 2016

कविता - ख़याल - भारती परिमल

कविता का अंश... शाम तन्हाई में, यूँ ही खयाल आया… दिन-रात के पुल पर, जिंदगी चलती है या जिंदगी के पुल पर, दिन-रात चलते है? सुख-दुख के पहियों पर, जिंदगी घूमती है या जिंदगी के पहियों पर, सुख-दुख घूमते हैं? आशा-निराशा के झूले पर, जिंदगी झूलती है या जिंदगी के झूले पर, आशा-निराशा झूलते हैँ? यादों-वादों के जंगल में, जिंदगी उलझी है या जिंदगी के जंगल में यादें-वादें उलझे हैं? मिलन-जुदाई के दो तट पर, जिंदगी खड़ी है या जिंदगी के तट पर, मिलन-जुदाई खड़े हैं? ऐसे ही खयालों की ज़मीन पर टहलते-टहलते, रात गहरा गई, चाँदनी बिखर गई। किसी ने झटका लटों को, और कहा – खयालों को भी, यूँ ही झटक लो। देखा, तो जिंदगी थी… मुस्करा रही थी… और कह रही थी… न सोचो मेरे बारे में, न उलझों मुझ में, बस मेरे साथ-साथ चलते चलो, तुम हो तो मैं हूँ, मैं हूँ तो तुम हो। एक-दूजे का हाथ थामे, हमें चलना है, आगे बढ़ते जाना है। और मैं चल पड़ी… चलती रही… चलती रहूँगी…. चलती रहूँगी….। इस कविता का आनंद ऑडियो की मदद से लीजिए...

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Labels