अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

11:57 am
लेख के बारे में... चिड़िया का चहचहाना कितना भला लगता है। उसकी चहचहाहट में भी एक लय है। बचपन मानो चिड़िया की चहचहाहट की इस लय पर थिरक उठता है। बचपन में चिड़िया पर बहुत-सी कहानियाँ पढ़ते थे। माँ की कहानियों में भी चिड़िया समाई होती थी। माँ से ही जाना कि चिड़िया का एक के बाद एक पैर उठाकर चलना ही फुदकना कहलाता है। चिड़िया से आज तक किसी को कोई नुकसान नहीं पहुँचा। वह हमारी दोस्त है। हमारे साथ सदा दोस्ती निभाती है। शायद ही कोई ऐसा हो,जिसे चिड़िया का साथ, उसका चहकना, उसका फुदकना अच्छा न लगता हो। अपनी चोंच मे दाना लेकर जब वह अपने नन्हे बच्चों की चोंच में डालती है, तो यह दृश्य मन को बड़ा मोहक लगता है। चिड़िया के इस स्वभाव में उसका ममत्व झलकता है। लेकिन आज हम इस प्यारी चिड़िया को अपने से दूर कर रहे हैं। रेत-सीमेंट के ऊँचे-ऊँचे भवन बनाकर हमने पेड़ों को अलविदा कह दिया है। अब अपना घोंसला चिड़िया कहाँ बनाएगी और अपने बच्चों को कहाँ रखेगी? उसके लिए हमने कोई प्रबंध तो किया नहीं, बस अपने स्वार्थ को पूरा करने में लगे रहे। क्या ऐसे में नाराज चिड़िया हमारे पास वापस आएगी? क्या हम उसकी नाराजगी दूर कर पाएँगे? कैसे और कब? इसके बारे में जानिए इस लेख के माध्यम से और ऑडियो की मदद से...

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.