शुक्रवार, 3 जून 2016

बाल कहानी - जो छुओ सोना हो जाए

कहानी का अंश... एक व्यापारी था। उसका एक बेटा था। पत्नी की मृत्यु हो चुकी थी इसलिए व्यापारी ने अपने बेटे के पालनपोषण में किसी तरह की कोई कमी नहीं रखी थी। पानी की तरह पैसा बहा दिया था। भाग्य भी उसका साथ दे रहा था। वह एक हाथ से कमाता था और दोनों हाथों से लुटाता था। बेटे को उसने बड़े लाड-प्यार से पाला था। उसे किसी चीज की कमी कभी महसूस ही नहीं होने दी। आखिर एक दिन ऐसा आया कि उस व्यापारी की म़ृत्यु हो गई। मरने से पहले उसने अपने बेटे को आशीर्वाद देते हुए कहा- बेटा, तेरा भाग्य बड़ा शक्तिशाली है। तू जिस चीज को भी हाथ लगाएगा, वह सोना हो जाएगी। यह मेरा आशीर्वाद है। ऐसा कहने के पश्चात वह भगवान को प्यारा हो गया। सचमुच उसके भाग्य का ही चमत्कार था कि व्यापारी के बेटे ने उसकी मृत्यु के बाद व्यापार में खूब लाभ कमाया। चारों तरफ से धन की वर्षा होने लगी। आगे क्या हुआ, क्या व्यापारी का बेटा इतने धन को पाने के बाद खुश था? उसे किस बात की चिंता होने लगी और उसने आगे क्या किया? इन सभी जिज्ञासाओं के समाधान के लिए ऑडियो की मदद लीजिए...

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Labels