अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

1:17 pm
कहानी का अंश…. मिस्टर अलबर्ट मतारा को पसंद नहीं करते थे। उनकी पत्नी सारा भी उनके तरह के ही खयालों की महिला थी। उन दोनों के अलावा घर में दो गोरे-गोरे सुंदर बच्चे जूली और जेंटल थे, वे भी मतारा को पसंद नहीं करते थे। वे सभी मतारा को ऐसे देख रहे थे, जैसे उनके घर में कोई चुडैल आ गई हो। मिस्टर अलबर्ट के मकान में एक बहुत बड़ा कमरा था। प्राय: वह खाली रहता था। कुछ समय पहले उसमें मिस्टर उरग्वे अपने परिवार के साथ रहते थे। उनके जाने के बाद से वह कमरा खाली ही था। मिस्टर अलबर्ट ने मतारा को उस कमरे में बंद कर दिया। मतारा को उनका यह व्यवहार समझ में नहीं आया। इतने बड़े कमरे में खुद को अकेला पाकर वह डरने लगी। उसने अलबर्ट दंपति से कहा भी कि मुझे यहाँ अकेला मत छोड़िए, लेकिन वे बोले - जब भूख लगे तो कमरे का दरवाजा थपथपा देना। हम खाना दे जाएँगे। मतारा उस कमरे में अकेले डरने लगी। मौसम भी ठंडा था। उसने पलंग में बिछी हुई चादर ओढ़ने के लिए उठाई तो उस पर रखी हुई तीन गुडिया गिर पड़ी। अचानक मतारा को लगा कि वे उससे बात कर रही हैं और उससे रोने का कारण पूछ रही है। देखा तो वहाँ उसकी ही उम्र की तीन लड़कियाँ खड़ी थी। कौन थी वो लड़कियाँ और वे मतारा से क्या बात करने लगी? उन्होंने मतारा का डर दूर किया या नहीं? वे कहाँ से आई थी? ये सारी बातें जानने के लिए ऑडियो की मदद लीजिए…

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.