अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

11:22 am
कविता का अंश... अर्जुन, भीष्म पितामह, कर्ण और दुर्योधन, मैं जानता हूँ बहुत लोग याद भी नहीं करेंगे मुझे आज इसीलिए मैं चुपचाप खड़ा हूँ भीष्म के ध्वजा-कटे रथ के पास ! मैं क्या करूँगा, शर-शैया पर लेटे भीष्म की परिक्रमा कर, मुझे आवश्यकता नहीं है, अर्जुन की तरह किसी आशीर्वाद की ! हो सकता है भीष्म कह दें, धर्म नष्ट हो जाएगा स्त्री की परछाई से। धर्म के पास उनकी तरह, इच्छा-मृत्यु का वरदान भी तो नहीं ! भीष्म तो अपने पीछे, उस धर्म को ही छोड़ कर जाना चाहते हैं, जिसकी सबसे अधिक खिल्ली उड़ाई, उनके कौरव-पुत्रों ने ही। और उन्हें जीने के लिए सदा, अपनी आत्मा पर रखना पड़ा पत्थर ! अब कब तक लिए रहूँगा, स्थूणाकर्ण यक्ष की पुरुष देह ? मेरी मृत्यु निश्चित है, आने वाले दिनों के युद्ध में। और उसे भी प्रतीक्षा होगी, अपनी पुरुष देह की, प्रतीक्षा होगी, नारी से पुरुष बनने की ! उससे हँस कर पूछूँगा -- शोषक को कैसा लगा शोषित बन कर ? सच कहूँ, मुझे ज़रा भी इच्छा नहीं है मोक्ष की, मुझे चाहिए जीवन का अभिशाप ! मैं बार-बार बनना चाहूँगी स्त्री और जूझना चाहूँगी, उस पुरुष मानसिकता से, जिसने हर युग में किया है स्त्री का शोषण ! उसे स्वर्ण और रत्नों की तरह ही, जुए में लगाया गया है दाँव पर। और फिर भी कहलाए हैं धर्मराज ! मैं चाहूँगा भस्म हो जाएँ वे सभी धर्म-ग्रन्थ, जिनमें स्त्रियाँ बना दी गई हैं देवियाँ। और उन से छीन लिया गया है, मनुष्य की तरह जीने का अधिकार ! वे सभी ग्रन्थ मानवता की व्याख्या के लिए नहीं, पुरुषों के द्वारा अपनी लिप्सा और वासना की पूर्ति के, साधनों के रूप में लिखे गए थे ! आज इस काँपती काली रात में, जी भर कर रोएगा शिखण्डी। जिसका अपमान किया उसके प्रेमी शाल्व ने, जिसकी सहायता के लिए आए परशुराम भी। और अन्ततः हो गए आश्वस्त, कि वे भी इस पुरुष-समाज में, न्याय नहीं दिला सकते एक स्त्री को ! इस अधूरी कविता को पूरा सुनने के लिए ऑडियो की मदद लीजिए...

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.