अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

4:53 pm
कविता का अंश... दिन के पास थीं दास्तानें कितनी, संजोए थी रात भी ख्वाब हसीं। कहने खूबसूरत किस्से थे, सुननी रुबाइयां कुछ भीनी। ठिठक गया चांद, रुपहली खिड़की पर कुछ पल। चांदनी छन्न से बिखर गई, नदियां हंस पड़ीं खिलखिल कर। जरा अकड़, तन गया पर्वत कोई। घाटियों ने गहरी सांसें लीं, दरख्तों ने धरी होंठों पे उंगलियां। शांत हुए भंवरे, चंचल तितलियों की धमाचौकड़ी भी, थम गई बेसाख्ता। झुक सा गया कुछ आसमां, धरा चिहुंकी, थरथरा गई। कुछ दरका, चटखा भी कहीं कुछ। थोड़ा सा लहका, तो बरस भी गया। ज्वार उफना...उतर गया। कुछ अधजला या अधबुझा सा, सुलगता ही रह गया। चांद के दिल में बस इक कसक, बाकी रह गई। इस कविता का आनंद ऑडियो की मदद से लीजिए...

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.