अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

कविता का अंश... जीवन दात्री धरती,रक्त रंजित हो रही, फूलों की बगिया, पुष्प रहित हो रही। औरों की प्यास बुझाते हुए, स्वयं प्यासी हो गयी, मानव की प्यास बुझने का नाम नहीं लेती। अतृप्त मानव खून का प्यासा हो रहा, पानी से नहीं, अब तो खून से भी नहीं बुझती। कौरव पाण्डवों से नहीं, कौरवों से ही लड़ रहे पाण्डव अज्ञातवास में है, कौरव युद्ध जारी है। धृतराष्ट् को दिखता नहीं, युधिष्ठिर जुऐ में व्यस्त है। कृष्ण असहाय से मूक दर्शक बन दूर चले गए। द्वारिका भी है गृह युद्ध में झुलसे हुए, राम ,हनुमान भी अयोध्या में हैं उलझे हुए, शिव भी विषपान कर, हिम पर्वत पर चले गए। सीता हरण भी हो गया, रावण को खोजते ही रहे, अब कौन बचाए ?इस धरती को आतंक से सच तो यह है कि सभी व्यस्त हैं अपने मंगल में, हे मानव ! अब तो जागो खुद के दंगल से । बाहर निकलो ,अपने अंतर्मन के दवंद्व से। ऐसी ही अन्य कविता का आनंद ऑडियो की मदद से लीजिए...

एक टिप्पणी भेजें

  1. अतिसुंदर, शब्दो को खूबसूरती से पिरोया गया है।

    उत्तर देंहटाएं

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.