सोमवार, 16 मई 2016

कविता - आरसी प्रसाद सिंग

कविता का अंश... मैंने तो एक किरण मांगी थी, तूूने तो दिनमान दे दिया, चकाचौंध भरी चमका का, जादू तडि़त सामान दे दिया। मेरे नयन सहेंगे कैसे, यह अमिताभा एेसी ज्‍वाला,मरूमाया की यह मरिचिका, तुहिन पर्व की यह वरमाला, हुई यामिनी शेष न मधु की, तूने नया विधान दे दिया, मैंने तो एक किरण मांगी थी, तूने तो दिनमान दे दिया। आगे की कविता ऑडियो की मदद से सुनिए...

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Labels