बुधवार, 18 मई 2016

आलेख - मनुष्‍य की सबसे बड़ी़ ताकत - आत्‍मबल

लेख के बारे में... इस संसार में शक्ति का वर्चस्‍व है। शक्ति का ही राज है। शक्ति के बल पर ही मनुष्‍य संसार में विचरण करता है। विकास करता है और जीवन में सफलता प्राप्‍त करता है। अपनी शक्ति को बढ़ाने के लिए मनुष्‍य तरह-तरह के उपाय करता है। लेकिन क्‍या यह शक्ति हर समय हमारा साथ देती है, यह जरूरी नहीं है। जो आज शक्तिशाली है, वह आने वाले समय में कमजोर भी हो सकता है और जो आज कमजोर है, वह कल शक्तिशाली भी बन सकता है। हमारी आत्‍म शक्ति भले ही हमें बाहरी शक्तियों की तरह दिखाई नहीं देती, लेकिन हमारे व्‍यक्तित्‍व पर, हमारी सोच व क्रियाकलापों पर जबरदस्‍त प्रभाव डालती है। इसका प्रभाव भी बहुत दूरगामी होता है। इसी प्रभाव के बल पर सामान्‍य सा दिखनेवाला व्‍यक्ति भी अपनी अमिट छाप छोड़ता है। इस शक्ति के बल पर ही किसी भी तरह के संकट का वह मुकाबला करने से नहीं घबराता। विचलित होोना तो उसे आता ही नहीं। कठिन से कठिन परिस्थितियों का वह डटकर मुकाबला करता है। इसी आत्‍मशक्ति के सामने दुनिया के सारे ऐश्‍वर्य, सुख-सुविधाएँँ आदि महत्‍वहीन द‍िखाई देते हेैं। आइए जानते हैं, इस आत्‍मशक्ति की गहराई को इस ऑडियो के माध्‍यम से...

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Labels