अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

12:43 pm
लेख का अंश... अल्लामा इक़बाल का शेर है: हज़ारो साल नरगिस अपनी बेनूरी पर रोती है, बड़ी मुश्किल से होता है चमन में दीदावर पैदा। मालूम नहीं कि शायर इकबाल को ऐसा क्या सूझा कि अपनी शायरी में नरगिस को ऐसा दर्द दे दिया लेकिन हमारी फिल्मी जगत की तारिका नरगिस भी अपने अलग-अलग फिल्मी किरदारों में ऐसे ही दर्द को बयां करती मालूम होती थी। उसकी नरगिसी आँखें हर पल बहुत कुछ कहने को बेताब रहती थीं। एक दर्द, एक तड़प, एक कसमसाहट उन झील-सी गहरी आँखों में दिखाई देती थी। जज्बातों का एक ऐसा तूफान या ज्वार जो सारे बंधन को तोड़कर उफान भरने को बेताब था… ऐसी थीं नरगिस की नरगिसी आँखें…। जिसका जादू महज पाँच वर्ष की उम्र से ही फिल्मी पर्दे पर नजर आने लगा था। भारतीय हिंदी फिल्मों की खूबसूरत अदाकारा नरगिस का जन्म 1 जून 1929 को कोलकाता में हुआ था। पिता उत्तमचंद मूलचंद, रावलपिंडी से ताल्लुक रखते थे और माता जद्दनबाई एक हिंदुस्तानी क्लासिकल गायिका थीं। नरगिस का असली नाम फातिमा रशीद था। घर का माहौल सुर-संगीत एवं फिल्म निर्माण से सजा हुआ था। फिल्म निर्मात्री एवं गायिका माँ जद्दनबाई की पुरजोर चाहत ने नन्हीं फातिमा को पाँच साल की उम्र में ही चकाचौंध से भरी फिल्मी दुनिया का दरवाजा दिखा दिया। सन् 1935 में बनीं उनकी फिल्म ‘तलाश-ए-हक़’ में नन्हीं फातिमा बेबी नरगिस के रूप में पर्दे पर उतरी। धीरे-धीरे बेबी शब्द पीछे छूट गया और खूबसूरत नरगिस सामने आ गई। बचपन से ही फिल्मी सफर शुरू करने वाली इस अदाकारा की आँखों में भी बचपन में एक सपना पल रहा था, सफल अभिनेत्री बनने का सपना नहीं, बल्कि एक डॉक्टर बनने का सपना। हाँ, ये सच है। नरगिस डॉक्टर बनना चाहती थी। एक दिन उनकी मां ने उनसे स्क्रीन टेस्ट के लिए फिल्म निर्माता एवं निर्देशक महबूब खान के पास जाने को कहा. चूंकि नरगिस अभिनय के क्षेत्र में जाने की इच्छुक नहीं थीं, इसलिए उन्होंने सोचा कि अगर वह स्क्रीन टेस्ट में फेल हो जाती हैं तो उन्हें अभिनेत्री नहीं बनना पड़ेगा. स्क्रीन टेस्ट के दौरान नरगिस ने अनमने ढंग से संवाद बोले और सोचा कि महबूब खान उन्हें स्क्रीन टेस्ट में फेल कर देंगे. लेकिन उनका यह विचार गलत निकला. चौदह वर्ष की कमसीन उम्र में निर्देशक महबूब खान ने अपनी फिल्म 'तकदीर' के लिए उन्हें मोतीलाल की हीरोइन के तौर पर चुन लिया. फिल्म 1943 में रिलीज हुई। फिल्म ‘तकदीर’ के बाद से तकदीर ऐसी मेहरबान हुई कि लगभग चार दशक तक वह अपने बहुआयामी अभिनय से दर्शकों का दिल जीतती रही। दिलों पर हुकूमत करती रही। नरगिस के बारे में ऐसी ही कुछ दिलचस्प जानकारियाँ इस ऑडियो की मदद से लीजिए...

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.