अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

12:12 pm
कविता का अंश... क्यों टूटते हैं रिश्ते पतझड. के पतों के समान क्यों नहीं समझ पाता आज इन्सान को इन्सान l पैदा हुआ है इन्सान प्यार बांटने के लिए फिर ये नफरत फैलाना कहां से सीख गया इन्सान l हर कोई चूर है यहां अपने ही अभिमान में कोई मुझे बताए आकर कहां खो गया है इन्सान l इन्सान को दिल दिया ताकि समझ सके वो दर्द दुसरे का दिमाग दिया इन्सान को ताकि स्वर्ग बना दे इसी धरा को l जो उठे इन्सान तो देवता बन जाए और गिरे तो दानव को भी पीछे छोड. जाए l भगवान ने रचा प्रकृति को बनाए चांद तारे सुरज और आसमान l फिर बनाई उसने अपनी सर्वोतम रचना दी उसने सज्ञां उसको इन्सान पछता रहा होगा भगवान भी देखकर आखिर क्यों पैदा कर दिया उसने इन्सान । ऐसी ही अन्य मर्मस्‍पर्शी कविताओं का आनंद ऑडियो की मदद से लीजिए...

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.