अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

बेटियाँ.... शायद पल भर में ही सयानी हो जाती हैं बेटियाँ, घर के अंदर से दहलीज़ तक कब आज जाती हैं बेटियाँ कभी कमसिन, कभी लक्ष्मी-सी दिखती हैं बेटियाँ। पर हर घर की तकदीर, इक सुंदर तस्वीर होती हैं बेटियाँ। हृदय में लिए उफान, कई प्रश्न, अनजाने घर चल देती हैं बेटियाँ, घर की, ईंट-ईंट पर, दरवाज़ों की चौखट पर सदैव दस्तक देती हैं बेटियाँ। पर अफ़सोस क्यों सदैव हम संग रहती नहीं ये बेटियाँ। एेसी ही अन्य कविताओं का आनंद ऑडियो की मदद से लीजिए...

एक टिप्पणी भेजें

  1. Kavita ati sunder,rochak hai. saath hi prastuti bhi bhaawo ko aur bhi vyakt karne mi sahayak ho rahi hai.
    Archana singh

    उत्तर देंहटाएं

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.