शनिवार, 6 अगस्त 2016

बाल कविताएँ - 1 - द्वारिकाप्रसाद माहेश्वरी

कविता का अंश... हम सब सुमन एक उपवन के एक हमारी धरती सबकी जिसकी मिट्टी में जन्मे हम मिली एक ही धूप हमें है सींचे गए एक जल से हम। पले हुए हैं झूल-झूल कर पलनों में हम एक पवन के हम सब सुमन एक उपवन के।। रंग रंग के रूप हमारे अलग-अलग है क्यारी-क्यारी लेकिन हम सबसे मिलकर ही इस उपवन की शोभा सारी एक हमारा माली हम सब रहते नीचे एक गगन के हम सब सुमन एक उपवन के।। सूरज एक हमारा, जिसकी किरणें उसकी कली खिलातीं, एक हमारा चाँद, चाँदनी जिसकी हम सबको नहलाती। मिले एकसे स्वर हमको हैं, भ्रमरों के मीठे गुँजन के हम सब सुमन एक उपवन के।। इस अधूरी कविता को पूरा सुनने के लिए और इसके साथ ही अन्य बाल कविताओं का आनंद लेने के लिए ऑडियो की मदद लीजिए...

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Labels