अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

कहानी का अंश... शर्माजी शादी का कार्ड देख रहे थे. उनके परम मित्र रघुवर टंडन की बेटी का विवाह अगले हफ्ते था. टंडनजी ने कल फोन पर भी निमंत्रण दिया था और अभी कुछ समय पहले ही कूरियर से यह कार्ड भी आ गया. शर्माजी सोच में पड़ गए. इधर स्वास्थ्य कुछ अच्छा नहीं था. ऐसे में दिल्ली जाना कठिन था. वैसे फोन पर उन्होंने अपनी समस्या समझा दी थी. किंतु टंडनजी घनिष्ठ मित्र थे. किसी को तो जाना ही चाहिए. वह अपनी बेटी गायत्री को भेजने के विषय में सोचने लगे. जब से उसका अपने पति से तलाक हुआ था उसने स्वयं को एक दायरे में कैद कर लिया था. काम पर जाने के अतिरिक्त वह बहुत कम ही घर से बाहर निकलती थी. ना किसी से मिलना ना बात करना. बस अपने में खोई रहती थी. शर्माजी को उसकी इस दशा से बहुत कष्ट होता था. कहीं ना कहीं वह इसके लिए स्वयं को दोषी मानते थे. शाम को जब गायत्री लौटी तो उन्होंने दिल्ली जाने के विषय में उससे बात की. "तुम्हें तो पता है कि मेरा स्वास्थ्य इन दिनों ठीक नहीं है. मेरा जाना तो कठिन होगा. तुम चली जाती तो अच्छा होता." कुछ देर सोचने के बाद गायत्री बोली "आप तो जानते हैं ना पापा अब मेरा कहीं भी आने जाने का मन नहीं करता." शर्माजी कुछ गंभीर स्वर में बोले "तेरी पीड़ा समझता हूँ बेटी. पर ऐसे कब तक चलेगा. बीते को भुला कर आगे बढ़ना ही समझदारी है. तुम जाओगी तो तुम्हारा मन भी बहल जाएगा और उन्हें भी खुशी मिलेगी." कुछ क्षण रुक कर बोले "बाकी तुम्हारी इच्छा. मैं ज़ोर नहीं दूँगा." गायत्री अपने कमरे में आ गई. वह अपने पिता की बात पर विचार करने लगी. टंडन अंकल ने सदैव उसे बेटी की तरह माना था. उनके अच्छे पारिवारिक संबंध थे. यदि पापा नहीं जा सकते तो उसे ही जाना चाहिए. बहुत सोच विचार के बाद वह जाने को तैयार हो गई. गायत्री को देख सभी बहुत प्रसन्न हुए. खासकर रुची वह दौड़ कर उसके गले लग गई. आज रुची की हल्दी की रस्म थी. सभी रस्में टंडनजी के फार्महाउस में हो रही थीं. काफी चहल पहल थी. एक लंबे अर्से के बाद गायत्री ऐसे माहौल में आई थी. धीरे धीरे अपने आप को इस माहौल में ढाल रही थी. शादी के दिन सभी बारात का स्वागत करने के लिए तैयार हो रहे थे. गायत्री भी मौके के अनुसार तैयार हुई. बारात सही समय पर आ गई. बारातियों में एक चेहरे ने गायत्री का ध्यान अपनी ओर खींच लिया. उसने भी गायत्री को देख लिया. दोनों एक दूसरे को पहचान गए. लेकिन उस समय बात कर पाना संभव नहीं था. उस चेहरे को देख गायत्री अतीत में चली गई. इस अधूरी कहानी को पूरा सुनने के लिए ऑडियो की मदद लीजिए...

एक टिप्पणी भेजें

  1. नमस्कार
    मेरी कहानी शुभ घड़ी को अपने ऑडियो ब्लॉग दिव्यदृष्टि में लेने के लिए धन्यवाद। दृष्टिहीन श्रोताओं के लिए आप का प्रयास सराहनीय है।

    उत्तर देंहटाएं

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.