अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

कथा का अंश….. रूत तो बहुत आई बरसात की, भीगना अच्छा न लगता था इस बार न जाने क्या बात हुई, घंटो भीगते रहे बरसात में… चार वर्ष पहले राज को लिखा अपना खत पति के कागजों में देखकर मैं हैरान रह गई??? मेरा खत यहाँ कैसे आया? क्या सागर मेरे अतीत के बारे में जानता है? यह विचार मन में आते ही मैं तनाव से घिर गई। खत को हाथ में लिए मैं गार्डन में आ बैठी और सोचते-सोचते ठंडी हवा के झौंकों के साथ ही अतीत में बहती चली गई… राज, जिसे बरसात की ठंडी फुहारों में सड़कों पर घूमते हुए भीगना अच्छा लगता था और मैं, जो बारिश के नाम से ही डरती थी, एक-दूसरे से मिले और जल्दी ही नजदीक आ गए। कैंपस से शुरू हुआ प्यार ग्रेज्युएशन तक पहुँचते-पहुँचते गहरा हो गया। उसके प्यार ने कब मुझे भी बारिश का दीवाना बना दिया, पता ही नहीं चला। जिंदगी जिंदादिली का नाम है, मुर्दादिल क्या खाक जिया करते हैं!!! इस वाक्य को अपना आदर्श मानने वाले राज ने कब आर्मी ज्वाइन की और कब सरहद के लिए अपनी जान भी कुरबान कर दी, साथ जीने साथ मरने की कसमें खाने वाले उन लमहों के बीच ये सब कब और कैसे हुआ, यह मैं समझ ही नहीं पाई। इस सच को मैं तब स्वीकार कर पाई, जब डिप्रेशन के तीन महीने अस्पताल में गुजारने के बाद मैं वापस घर लौटी… आगे क्या हुआ? उसका खत सागर तक कैसे पहुँचा? क्या सागर और राज एक-दूसरे को जानते थे? इन सभी जिज्ञासाओं को शांत करने के लिए ऑडियो की मदद लीजिए और इस लघुकथा का सुनकर आनंद लीजिए…

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.