शुक्रवार, 22 जुलाई 2016

मैथिलीशरण गुप्त - पंचवटी - 11

पंचवटी का अंश... राघवेन्द्र रमणी से बोले-"बिना कहे भी वह वाणी, आकृति से ही प्रकृति तुम्हारी, प्रकटित है हे कल्याणी! निश्वय अद्भुत गुण हैं तुम में, फिर भी मैं यह कहता हूँ- गृहत्याग करके भी वन में, सपत्नीक मैं रहता हूँ॥ किन्तु विवाहित होकर भी यह, मेरा अनुज अकेला है, मेरे लिए सभी स्वजनों की, कर आया अवहेला है। इसके एकांगी स्वभाव पर तुमने भी है ध्यान दिया, तदपि इसे ही पहले अपने, प्रबल प्रेम का दान दिया॥ एक अपूर्व चरित लेकर जो, उसको पूर्ण बनाते हैं, वे ही आत्मनिष्ठ जन जग में, परम प्रतिष्ठा पाते हैं। यदि इसको अपने ऊपर तुम, प्रेमासक्त बना लोगी, तो निज कथित गुणों की सबको, तुम सत्यता जना दोगी॥ जो अन्धे होते हैं बहुधा, प्रज्ञाचक्षु कहाते हैं, पर हम इस प्रेमान्ध बन्धु को, सब कुछ भूला पाते हैं। इसके इसी प्रेम को यदि तुम, अपने वश में कर लोगी, तो मैं हँसी नहीं करता हूँ, तुम भी परम धन्य होगी।" इस पूरी कविता का आनंद ऑडियो की मदद से लीजिए...

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Labels