बुधवार, 6 जुलाई 2016

कविता - ...क्योंकि सपना है अभी भी - धर्मवीर भारती

क्योंकि सपना है अभी भी...कविता का अंश... ...क्योंकि सपना है अभी भी इसलिए तलवार टूटी अश्व घायल कोहरे डूबी दिशाएं कौन दुश्मन, कौन अपने लोग, सब कुछ धुंध धूमिल किन्तु कायम युद्ध का संकल्प है अपना अभी भी ...क्योंकि सपना है अभी भी! तोड़ कर अपने चतुर्दिक का छलावा जब कि घर छोड़ा, गली छोड़ी, नगर छोड़ा कुछ नहीं था पास बस इसके अलावा विदा बेला, यही सपना भाल पर तुमने तिलक की तरह आँका था (एक युग के बाद अब तुमको कहां याद होगा?) किन्तु मुझको तो इसी के लिए जीना और लड़ना है धधकती आग में तपना अभी भी। इस अधूरी कविता को पूरा सुनिए ऑडियो की मदद से...

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Labels