अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

2:10 pm
काव्य का अंश... सुप्रभात की सुरभि वेला में, उदित हुआ ज्यों प्रभाकर, अविजित उसका रूप देख, तम भगने में नहीं किया देर ।१। उपवन हो गया सजा भरा, कलियाँ भी मुस्कुराईं, पुष्पों के सुगंधित दौड़ में, सुधाभरी पावन वेला आयी ।२। देख प्रकृति का अनुपम उपहार, विहगों ने छेड़ी मीठी तान, सुगंधित मलय बयार चली, करने लगे सब प्रभु का गान ।३। मस्त हुआ हर तृण,पादप, भौंरों ने गाना शुरु किया, सरिता बह रही अविराम, पथिकों को अमिय अभिराम दिया ।४। घूमने लगे वन्य-जीव, माँ ने बेटे को पुचकारा, कृषक चला खेत की ओर, बह चली प्रेम की धारा ।५। आगे का खंडकाव्य जानने के लिए ऑडियो की मदद लीजिए...

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.