अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

4:07 pm
कविता का अंश… छुक छुक छुक छुक करती छुक छुक गाड़ी चली, सबसे आगे काला हाथी, इंजन वह कहलाता। हाथी पर बैठा खरगोश, ड्राइवर वह कहलाता, बड़े –बड़े फल वो हाथी को देता जाता। जंगल में मचता कोलाहल पक्षी घबरा जाते, लंबी गरदनवाले जिराफ भाई जंगल देखते जाते, भेड़िया और सियार उसके पाँव से टकराए। काना कौआ एक आँख से जंगल देखता जाए, हिरन और साँभर कुलाँचे मारते जाए। कोट पहनकर बंदर भाई डिब्बे-डिब्बे जाए, सबकी टिकट जाँच कर टी.टी.ई. वो कहलाए। सबसे पीछे झंडी लेकर रीछ भाई जाए, पीप पीप पीप पीप सीटी बजाए, गाड़ी चलती जाए। इस कविता का पूरा आनंद लेने के लिए ऑडियो की मदद लीजिए…

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.