सोमवार, 5 सितंबर 2016

कविता – औरत – डॉ. रेणु शर्मा

कविता का अंश… औरत, मोहल्ले से घरों तक, लोहा तोड़ती, पेड़ के नीचे, सोती-जागती, खानाबदोश है औरत। जंगलों-पहाड़ों-पर्वतों, सुरंगों-नालों, चौराहों-गलियारों में, पत्थर तोड़ती, झूले को धक्का देती, आँचल में दुनिया उतारती, नक्शे पर सड़क बनाती, भटकों को राह दिखाती, तीर है औरत। ढकी-उघड़ी, नंगी-अधनंगी, डर-सहमी, बड़ी कंपनी का, सस्ता माल बेचती, इश्तहार है औरत। भागती जिंदगी की दौड़ में, सरकारी परिवहन में, सैर करते, पेड़-पौधों के बीच, सूख गए ठूँठ-सी, उखाड़ने योग्य है औरत। औरत… इस अधूरी कविता का पूरा आनंद लेने के लिए ऑडियो की मदद लीजिए… संपर्क - sharmarenu61@gmail.com

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Labels