अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

1:15 pm
सबसे उज्जवल क्या है? कहानी का अंश… एक दिन बादशाह अकबर दरबार में बैठे थे। एकाएक उन्होंने दरबारियों से पूछा – सबसे उज्जवल क्या है? दरबारियों में से किसी ने कपास तो किसी ने फूल तथा दूसरी चीजों के नाम बताए। मतगणना से ज्ञात हुआ कि लोगों का दूध तथा कपास पर ज्यादा मत था। बीरबल अभी तक चुप थे। उन्हें चुप देखकर बादशाह बोले – क्या बात है बीरबल? तुम बिलकुल चुप हो। तुम्हारी इस बारे में क्या राय है? बीरबल ने उत्तर दिया – जहाँपनाह, मेरी समझ में तो सबसे उज्जवल सूरज की रोशनी होती है। बादशाह बोले – प्रमाण सहित तुम्हें इस बात को सिद्ध करना होगा। बीरबल ने यह बात स्वीकार कर ली। दसूरे दिन जब बादशाह अकबर अपने शयनकक्ष में आराम कर रहे थे, तब बीरबल ने एक कटोरा दूध और दो-चार खिले हुए कपास के फूल ले जाकर उनके दरवाजे के पास रख दिए। कमरा चारों तरफ से बंद था और उसमें बिलकुल प्रकाश नहीं आ रहा था। यह काम बीरबल ने बिलकुल चुपचाप किया था। जब बादशाह अकबर आराम करके उठे तो वह सीधे दरवाजे की तरफ गए और उनकी ठोकर लगकर सारा दूध गिर पड़ा। किवाड़ खोलने से प्रकाश हुआ तो बादशाह को दूध तथा कपास ठीक दरवाजे के पास देख कर आश्चर्य हुआ। जब वह कमरे से बाहर निकले तो बीरबल को वहाँ मौजूद देखकर समझ गए कि यह बीरबल की ही कारगुजारी है। उन्होंने बीरबल से दूध तथा कपास दरवाजे पर रखने का कारण पूछा… बीरबल ने क्या जवाब दिया होगा? क्या अकबर उनके जवाब से संतुष्ट हो गए होंगे? अपनी इस जिज्ञासा के समाधान के लिए ऑडियो की मदद लीजिए…

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.