अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

1:50 pm
और क्या? कहानी का अंश… एक दिन बीरबल को अपने किसी रिश्तेदार के यहाँ दावत में जाना था। इसलिए वह दरबार खत्म होने से पहले ही बादशाह से छुट्‌टी लेकर चले गए। दूसरे दिन जब बीरबल दरबार में हाजिर हुए तो बादशाह ने दावत के बारे में पूछा – खाना कैसा बना था और दावत में क्या-क्या था? बीरबल ने कई पकवानों के नाम बताए और वह आगे बता ही रहे थे कि बादशाह ने उन्हें किसी काम में उलझा दिया जिससे उनकी दावत का वर्णन अधूरा ही रह गया। यह बात हुए हफ्तों बीत गए। एकाएक बादशाह को याद आया कि उस दिन बीरबल ने दावत का वर्णन तो अधूरा ही छोड़ दिया था। यह याद आते ही उनकी स्मरणशक्ति की परीक्षा लेने के लिए उन्होंने पूछा – और क्या बीरबल? बीरबल तत्काल समझ गए कि उस दिन दावत में बनी हुई चीजों के नाम बताते-बताते वह किसी दूसरे काम में उलझ गए थे, इसलिए वर्णन अधूरा रह गया था। बादशाह उसी वर्णन को पूरा करने की गरज से उनसे यह प्रश्न पूछ रहे हैं। यह विचार आते ही बीरबल ने फौरन ही उत्तर दिया – और क्या? कढ़ी। बीरबल की इतनी अच्छी स्मरणशक्ति से बादशाह प्रसन्न हुए और उन्होंने अपने गले से मोतियों की एक माला उतार कर उन्हें उपहार स्वरूप दी। उपस्थित दरबारी यह न समझ सके कि बादशाह ने बीरबल को किस बात को ईनाम दिया है? बस वे भी बादशाह से ईनाम चाहते थे। ईनाम के लालच में दरबारियों ने क्या किया? यह जानने के लिए ऑडियो की मदद लीजिए….

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.