अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

2:19 pm
शराब के छह रूप.... कहानी का अंश... अकबर बादशाह को वृद्धावस्था में शराब का शौक कुछ ज्यादा ही हो गया था। रात में जब वे अपने नवरत्नों के साथ बातें करते तो उस वक्त थोड़ी-सी पी लिया करते थे। वे ऐसा छिपकर करते थे, फिर भी उनकी बातचीत के ढंग से बीरबल को एक दिन इसका पता चल ही गया। इसके बाद बीरबल ने एक दिन उन्हें शराब पीते हुए भी देख लिया। तभी उन्होंने बादशाह की इस बुरी लत को छुड़ाने का प्रण ले लिया। जिस कमरे में बादशाह शराब रखते थे, एक दिन बीरबल वहाँ गए और वहाँ की प्रत्येक वस्तु को ध्यान से देखा। इसके बाद वहाँ की सब चीजें तितरबितर कर के शराब की बोतल को बगल में दुशाले से ढँक कर तेजी से बाहर निकल आए। बीरबल को कुछ ले जाते हुए बादशाह ने दिख लिया मगर उन्होंने समझा कि बीरबल कुछ आवश्यक कागज़ात ले जा रहे होंगे, यही सोचकर वे चुप रहे। उनके जाने के बाद कुछ आवश्यक बातें बादशाह को जानने की जरूरत महसूस हुई। उन्होंने बीरबल को बुलवाया। बगल में वही वस्तु दबाए हुए बीरबल बादशाह के पास आए। बातचीत करते समय बादशाह का ध्यान फिर उनकी बगल की तरफ गया और उन्होंने बीरबल से पूछा – बीरबल, तुम्हारी बगल में क्या है? बीरबल ने उत्तर दिया – कुछ भी तो नहीं है, जहाँपनाह। बीरबल के उत्तर से बादशाह की उत्सुकता और बढ़ गई। उन्होंने फिर पूछा तो बीरबल बोले – तोता है। क्या वजह थी कि बीरबल बादशाह को इस तरह का जवाब दे रहे थे? बीरबल के इस जवाब से बादशाह की क्या प्रतिक्रिया हुई? क्या बीरबल बादशाह की शराब पीने की बुरी लत छुड़ा पाए? यह जानने के लिए ऑडियो की मदद लीजिए...

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.